वोटर की नब्ज पर गहरी पकड़ रखने वाली जनाधार इंडिया अब संभालेगी उत्तराखंड विधानसभा चुनाव की कमान- मनीष झा

देशभर में हुए विधानसभा चुनाव को लेकर जनाधार इंडिया द्वारा घोषित किए गए अनुमानित नतीजे सही साबित हुए हैं। जिसको देखते हुए लोगों ने जनाधार इंडिया पर अपना भरोसा जताया है। इसी कड़ी में अब जनाधार इंडिया उत्तराखंड के विधानसभा चुनाव की बागडोर संभालेगी व उत्तराखंड में अपनी टीम के साथ चुनावी सर्वे करेगी, इतना ही नहीं वोटर्स की मानसिकता पर भी अध्ययन करेंगी। बता दे जनाधार इंडिया इलेक्शन कैंपेन मैनेजमेंट कंपनी है जोकि वर्ष 2014 में अस्तित्व में आई थी। जिसके फाउंडर मनीष झा है। श्री मनीष को राजनीति व चुनावी सर्वे का करीब 14 वर्षों का अनुभव हैं। बहुत ही कम समय में जनाधार इंडिया ने अपनी काबिलियत को साबित कर दिखाया है। बीते दिनों बिहार, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, व केरल में जनाधार इंडिया द्वारा किए गए अनुमानित चुनावी नतीजो की घोषणा सही व सटीक साबित हुई हैं। जनाधार इंडिया ने यह साबित कर दिया कि जनाधार इंडिया वोटर को वास्तविकता में पहचानती है, उसकी मानसिकता पर गहरी रिसर्च करने में सक्षम है। जनाधार इंडिया के संस्थापक मनीष झा ने बताया कि सालों से जनाधार इंडिया की टीम वोटर्स की मानसिकता पर रिसर्च करती आ रही है, टीम देश प्रदेश वह हर क्षेत्र में बुनियादी मुद्दों को लेकर सर्वे करती रही है, इसी अनुभव के कारण हमें चुनाव के नतीजों को निकालने में सहायता मिलती है। इस बार जनाधार इंडिया उत्तराखंड में भी नवीन तकनीक के साथ अपनी पूरी टीम को उतार रही है। जिसमें न केवल क्षेत्र के हर व्यक्ति से विधानसभा चुनाव को लेकर बात की जाएगी बल्कि उत्तराखंड की सरकार में हो रहे सियासी फेरबदल को लेकर भी गहन अध्ययन करेगी, जिससे न केवल उत्तराखंड के विधानसभा चुनाव में सही नतीजे मिलने की उम्मीद की जा सकेगी बल्कि वोटर्स को भी एक बेहतर नेता व सरकार चुनने में मदद मिलेगी।

बेहतरीन तरीके से वोटर्स की मानसिकता पर किया जाएगा रिसर्च व सर्वे
जनाधार इंडिया के संस्थापक मनीष झा ने बताया कि जनाधार इंडिया की टीम पूरी तरह से प्रशिक्षित है, जोकि गरीब, पिछड़े व समृद्ध तबके से सर्व के दौरान बातचीत करेगी व उनकी मानसिकता को समझ कर चुनाव के में होने वाले परिवर्तन को समझगी। टीम निर्धारित करती है कि चुनाव में कहां पर क्या फेरबदल हो पाएगा या होगा।
इसके अलावा टीम इस बात का खास ख्याल रखती है कि वोटर्स के ऊपर सियासत के होने वाले फेरबदल का क्या प्रभाव देखने को मिल रहा है। जिस प्रकार उत्तराखंड में वर्तमान समय में सरकार के अंदर काफी फेरबदल देखने को मिल रहे हैं, इस फेरबदल को लेकर उत्तराखंड का वोटर्स क्या सोचता है। इस पर भी टीम प्रमुखता से काम करेगी। उन्होंने बताया कि हमारे पास प्रशिक्षित टीम है जो न केवल वोटर की मानसिकता पर अध्ययन करती है बल्कि उस क्षेत्र में होने वाले बदलाव को लेकर भी सर्वे करती है। क्षेत्रीय मुद्दे, बुनियादी समस्याएं, जनता व नेताओं के बीच का संबंध किस प्रकार से पनप रहा है, इन सभी बातो पर भी गहन अध्ययन किया जाएगा । जिसके चलते हमें चुनावी नतीजों के समीप पहुंचने में मदद मिलगी ।

ग्राउंड लेवल पर नवीन तकनीक से किया जाएगा सर्वे

मनीष झा ने जानकारी देते हुए बताया कि जनाधार इंडिया की टीम पिछड़े से पिछड़े इलाके तक पहुंचने में सक्षम है। इस दौरान वर्तमान में विकसित की गई नवीन तकनीकी व संसाधनों को लेकर सर्वे किया जाएगा, जिसमें डिजिटल मोबाइल वैन प्रमुख रहेगी। इसके अलावा इलेक्ट्रॉनिक डिजिटल डिस्पले बोर्ड के माध्यम से जागरूकता अभियान पर काम किया जाएगा साथ ही आगामी विधानसभा चुनाव में वोटिंग प्रतिशत को बढ़ाने के लिए भी लोगों को वोट डालने के लिए प्रेरित किया जाएगा जिसमें डिजिटल एडवर्टाइजमेंट भी माध्यम रहेंगी।

वर्तमान नेताओं के रिपोर्ट कार्ड पर भी किया जाएगा काम

मनीष ने बताया कि इस सर्वे के दौरान जितना ध्यान जनता की मानसिकता पर रखा जाएगा उतना ही फोकस वर्तमान नेताओं के रिपोर्ट कार्ड पर रहेगा जोकि साबित करेगा कि नेता की छवि जनता के बीच कैसी है। इस नेता ने वास्तविकता में अपने द्वारा किए गए वादों और दावों को पूरा किया है। इस रिपोर्ट कार्ड को देखते हुए जनता को वोटिंग करने में आसानी रहेगी व अपने बेहतरीन नेता को चुनने में मदद मिलेगी।

बूथ लेवल पर खंगाला जाएगा रिकॉर्ड

जनाधार इंडिया के संस्थापक मनीष झा ने बताया कि इस सर्वे के दौरान उत्तराखंड के हर विधानसभा क्षेत्र के बूथ पर काम किया जाएगा जिसमें अब तक की कई वोटिंग में पुराने रिकॉर्ड को लेकर समीक्षा की जाएगी साथ ही साथ वोटर्स की पिछले 10 सालों तक की गतिविधियों पर भी गहन ताश रिसर्च की जाएगी। इसके अलावा जाति व लिंग समीकरण पर भी काम किया जाएगा।
दो हफ्तों बाद होगी सर्वे के नतीजों की घोषणा
जनाधार इंडिया के संस्थापक मनीष झा ने बताया कि उत्तराखंड में चल रहे सर्वे में विभिन्न प्रकार के मुद्दों पर जनता से सवाल किए जा रहे हैं। जिनके तहत आगामी चुनाव में जनता किस तरफ अपना निर्णय सुनाएगी। इस सर्वे से प्राप्त लोगों की टिप्पणी पर सर्वे के नतीजों का अनुमान लगाया जाएगा वह इन नतीजों की घोषणा 2 हफ्ते बाद की जाएगी कि आगामी विधानसभा चुनाव में उत्तराखंड में किस पार्टी का दबदबा बना रह सकता है, और किसकी सरकार बनने की उम्मीद होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *